बुधवार, 1 जुलाई 2015

थाई मॉनेस्ट्री


इस यात्रा वृतांत को शुरू से पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें !!


बौद्ध धर्म से सम्बंधित मॉनेस्ट्री देखते देखते पक तो नही गए आप ? आज फिर  मोनेस्ट्री ले चलता हूँ आपको ।  थाई यानि थाईलैंड की मोनेस्ट्री।  इसे जवाहर लाल नेहरू के कहने पर दो देशों के बीच सम्बन्ध प्रगाढ़ करने के लिए 1956 ईस्वी में बनाया गया था।  ये भारत में अपनी तरह का विशिष्ट और एकमात्र थाई मंदिर है।  इस मंदिर में थाई स्थापत्य को बेहतरीन रूप में प्रदर्शित किया गया है।  कहते हैं इस मंदिर की छतों में सोने से डिज़ाइन बनाई गयी है।  मंदिर बिलकुल मुख्य रोड के किनारे है इसलिए ढूंढने और चलने में किसी तरह की कोई परेशान करने वाली बात ही नही है।  




आइये फोटो देखते हैं : 






प्रवेश द्वार


बाहर की दीवार


मुख्य मंदिर या मोनेस्ट्री

बताते हैं ये मूर्ति सोने की है !!





थोड़ा और नजदीक चलते हैं !!





ये मेहमानो के लिए , हम मेहमान नहीं थे !

दरवाजे पर डराने के लिए ? ऐसे  भूतों से तो बच्चे भी डरते !!



छोटे बुद्ध

छोटे बुद्ध






चलते हैं !!


                                                                                           

                                                                                                               यात्रा तो अभी जारी है :
एक टिप्पणी भेजें