मंगलवार, 3 अप्रैल 2012

कैसा ये परिवर्तन आया ?

भारत में जर , जोरू और ज़मीन की लड़ाइयाँ बहुत ही प्रसिद्ध रही हैं | आज के दौर में भी लगभग हर रोज़ समाचार पत्रों में जमीन के बदले मिलने वाले मुआवज़े को लेकर घर घर टूट रहे हैं | अपना ही खून अपना दुश्मन हो चला है | लगता ही नहीं कि रिश्तों की कोई अहमियत बाकी रह गई है | भाई , भाई के खून का प्यासा हो चला है | बेटा अपने माँ और पिता को अपनी जमीन के बदले मिले मुआवज़े का एक हिस्सेदार समझकर उसे दुनिया से विदा कर देता है | ये कौन सी प्रगति है हिंदुस्तान की , ये कैसे संस्कार हैं जो अपने ही खून के प्यासे हुए जाते हैं ? इन्हीं सब परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए एक कविता कहता हूँ !

कैसा ये परिवर्तन आया
मानव , मानव से हुआ पराया |
दौलत पे यहाँ द्वन्द मचा
रिश्तों पे पड़ा दानव का साया ||


प्रेम का गीत भूल रहे हम
जीवन संगीत भूल रहे हम |
मानवता के हत्यारों ने
जाने कैसा जाल बिछाया ||



ओढ़ झूठ की मैली चादर
इंसान बना शैतान यहाँ |
सोचता होगा भगवान जरूर
मैंने कैसा ये संसार बनाया ||

कैसा ये परिवर्तन आया
मानव , मानव से हुआ पराया ||

एक टिप्पणी भेजें