शुक्रवार, 30 जनवरी 2015

लेक सिटी उदयपुर : मोती मगरी

लेक सिटी उदयपुर : मोती मगरी

दिनांक : 22 जनवरी 2015

उत्तराखंड और हिमाचल को जैसे हम देव भूमि कहते हैं उसी तरह राजस्थान को वीरों की भूमि कहा जाता है ! उत्तर प्रदेश को क्या कहा जाता है ? मुझे नहीं मालुम !! इसी राजस्थान का मेवाड़ इलाका विश्व भर में अपने वीरों और उनकी वीरताओं की कहानियों से भरा हुआ है ! मेवाड़ का मूल नाम मेधपाट हुआ करता था जो कालांतर में मेवाड़ हो गया और इस राज्य के देवता भगवन शिव हुआ करते थे जिन्हें एकलिंगनाथ बोला जाता था , इसीलिए कभी कभी भगवन शिव को मेवाड़ में मेधपाटेश्वर भी कहा जाता है ! वर्तमान में मेवाड़ का क्षेत्रफल यूँ राजस्थान से लेकर गुजरात और इधर हरियाणा तक फैला है लेकिन मुख्य रूप से राजस्थान के चित्तौड़गढ़ , भीलवाड़ा , राजसमन्द और उदयपुर मिलाकर मेवाड़ बनाते हैं ! इसी मेवाड़ की धरती को नमन करने का मन वर्षों से दिल में था जो अब जाकर पूरा हुआ ! नए साल के अवसर पर जिस कॉलेज में मैं काम करता हूँ उसने अपने उन कर्मचारियों के लिए जिन्हें पांच साल या ज्यादा हो गए हैं , एक उपहार दिया जिसमें पांच दिन की छुट्टी और परिवार के साथ कहीं घूमने फिरने का खर्च शामिल था ! मुझे भी यहां सात साल हो गए हैं, मैं भी इसका हकदार था और मैंने बिलकुल भी देर नहीं लगाईं अपना प्रोग्राम बनाने में ! 21 जनवरी के लिए हजरत निजामुद्दीन स्टेशन , दिल्ली से उदयपुर तक मेवाड़ एक्सप्रेस ( 12963 ) में आरक्षण कराया और 26 जनवरी को उसी ट्रैन से वापसी का भी !

राजस्थान की तरफ जाने वाली ट्रेनों की एक विशेषता है कि आपको यात्रा वाले दिन से 3-4 दिन पहले तक भी कन्फर्म टिकेट मिल जाएगा जबकि बिहार , बंगाल की तरफ जाने वाली ट्रेन देखें तो 3-4 महीने पहले भी शायद कन्फर्म टिकेट न मिले ! तो 21 जनवरी को तय समय शाम को 7 :00 बजे गाडी रवाना हो गयी ! 2-3 बार पहले भी इस ट्रेन से चंदेरिया तक जाने का अवसर प्राप्त हुआ है लेकिन इस बार अंतिम स्टेशन उदयपुर तक जाना था ! मथुरा , भरतपुर निकलते निकलते नींद आ गयी और आँख खुली अपने पुराने जाने पहिचाने स्टेशन चंदेरिया पर ! चित्तौड़गढ़ से बिलकुल पहले का स्टेशन है चंदेरिया ! यहां बिरला के दो बड़े सीमेंट कारखाने BCW ( बिरला सीमेंट वर्क्स ) और CCW ( चेतक सीमेंट वर्क्स) हैं जिनमें से एक में मेरे बहनोई कार्यरत हैं ! उस वक्त सुबह के लगभग चार बजे होंगे , बारिश हो रही थी और जनवरी के महीने में अगर बारिश हो जाए तो सर्दी का क्या हाल होता है , आप जानते हैं ! जल्दी से फिर वापस आकर कम्बल में घुस गया और उदयपुर के साफ़ सुथरे स्टेशन पर ही जाकर अपने डिब्बे में से बाहर निकला ! राजस्थान में भी गजब की ठण्ड होती है यार ! स्टेशन से ऑटो कर सीधे होटल और फिर उसी ऑटो वाले को कह दिया कि भाई एक घंटे बाद फिर से आ जाना , उदयपुर के दर्शनीय स्थल दिखाने के लिए ! कुल 12 जगह दिखाने की बात थी और किराया तय हुआ 600 रूपया ! सुबह 9 बजे से शाम लगभग 7 बजे तक , ज्यादा नहीं था ! सबसे पहले उसने मोती मगरी ले जाने का तय किया ! क्यूंकि सुबह से बस एक कप चाय ही पी थी , रास्ते में उससे कहीं नाश्ता कराने के लिए कहा तो उसने नगर निगम के सामने अपना औरो रोक दिया , बोला सर - यहां बढ़िया नाश्ता मिल जाएगा आपको ! चार कचौड़ी और दो मिर्ची बड़ा ! मिर्ची बड़ा , एक फुट लम्बी हरी मिर्च के ऊपर बेसन लपेट कर बनाते हैं ! लेकिन मिर्ची बस नाम की , बिलकुल भी तीखापन नही ! इसीलिए शायद उसने उस पैकेट में आठ दस ऐसी ही मिर्च और भी रख दी होंगी ! कचर कचर गाजर की तरह खाते जाओ ! इसका नाम मिर्च न होकर हरी गाजर होना चाहिए था ! आइये मोती मगरी की सैर करते हैं और इसी रास्ते पर पड़ने वाले उदयपुर नगर निगम के अरावली पार्क को भी देखते चलते हैं :









दोनों बेटे : हर्षित और पारितोष


महाराणा प्रताप की कांस्य प्रतिमा


महाराणा प्रताप की कांस्य प्रतिमा

महाराणा प्रताप के घोड़े चेतक की अंतिम सांस का मार्मिक दृश्य




महाराणा प्रताप की कांस्य प्रतिमा




महाराणा प्रताप की कांस्य प्रतिमा

मोती मगरी से उदयपुर का विहंगम दृश्य


हल्दीघाटी के युद्ध में राणा प्रताप के सेनापति रहे हकीम खां सूर की प्रतिमा









मोती मगरी के सामने भामाशाह की प्रतिमा

मोती मगरी के सामने भामाशाह की प्रतिमा

मोती मगरी से फतेहसागर झील का एक दृश्य



                                                   

                                                                                           यात्रा जारी है , पढ़ते रहिये :
 


 



आगे की पोस्ट : 

 फतह सागर लेक

                                    सहेलियों की बाड़ी और सुखाड़िया सर्कल 

        उदयपुर : सिटी पैलेस 

              जगदीश मंदिर : उदयपुर 

                                              उदयपुर रोप वे और दीनदयाल उपाध्याय पार्क 

          उदयपुर से एकलिंगजी 

                                     एकलिंगजी से श्रीनाथ जी मंदिर नाथद्वारा 

हल्दीघाटी

                हल्दीघाटी : चेतक समाधी 

बाय बाय उदयपुर 

                  साँवरिया जी मंदिर :चित्तौड़गढ़ 

चित्तौड़गढ़ किला

पदमिनी​ महल : चित्तौड़गढ़ 

                                            जयमल फत्ता महल और विजय स्तम्भ : चित्तौड़गढ़ 

         गौमुख मंदिर : चित्तौड़गढ़

   मीरा मंदिर : चित्तौड़गढ़

   कीर्ति स्तम्भ : चित्तौड़गढ़ 

                                 नगीना बाजार और रतन सिंह पैलेस : चित्तौड़गढ़

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 
एक टिप्पणी भेजें